Untitled Document
 Untitled Document
पुस्तक सूची

निविदा

प्रकाशन की संशोधित दर



श्री कृष्ण नन्दन प्रसाद वर्मा
माननीय शिक्षा मंत्री, बिहार

श्री दिनेश चन्द्र झा
अध्यक्ष-सह-निदेशक

श्री दिनेश चन्द्र झा

    ग्रन्थ का चयन, अनुमोदन और आवंटन

    ग्रन्थों का चयन और अनुमोदन सामान्यत: विषय-विशेषज्ञों के परामर्श से किया जाता है और इसका ध्यान रखा जाता है कि वे ग्रन्थ प्रकाशित होने पर अधिकाधिक विश्‍वविद्यालयों के पाठ्यक्रमों के लिए उपयोगी हों और उनमें औपचारिक रूप से शामिल किया जा सके। केन्द्रीय विषयनामिकाओं(संचालन समिति) की सलाह से समन्वय समिति द्वारा अनुमोदित ग्रन्थों के अतिरिक्त राज्य-स्तर पर भी अनुवाद अथवा मौलिक लेखन के लिए ग्रन्थों के चयन में परामर्श के उद्देश्य से राज्य-विषयनामिकाओं का गठन किया जाता है। ग्रन्थों का अनुमोदन तथा उनका अनुवादार्थ एवं निर्माणार्थ आवंटन अकादमी करती है ।

    अनुवाद-कार्य

  • प्रत्येक अनुवादक अकादमी-कार्यालय से नियतनपत्र मिलने पर नियत पुस्तक के दस मानक पृष्ठों का अनुवाद नमूना प्रस्तुत करेंगे, जिसका पुनरीक्षण अकादमी किसी वरीय विषय-विशेषज्ञ से करायगी । अकादमी का पुनरीक्षण अनुमोदन प्राप्त होने पर ही अनुवादक कार्य को आगे बढ़ायेंगे ।
  • अनुवादक प्रतिमास अनुवाद-प्रगति की सूचना अकादमी को देंगे और नियत अवधि के अंदर अनुवादक कार्य समाप्त कर देंगे ।
  • अनूदित पाण्डुलिपि के अंश जैसे-जैसे तैयार होते जायं पुरीक्षण भी उसकी क्रम से किए जाते रहें ताकि पुनरीक्षण भी शीघ्र पूरा हो जाय और पुनरीक्षक के सुझावों से अनुवादक लाभ भी उठाते चलें । पुनरीक्षक द्वारा अनुमोदित होने पर ही पाण्डुलिपि अकादमी द्वारा प्रकाशनार्थ स्वीकृत की जायेगी ।
  • अनुवाद-कार्य पूरा होने, पुनरीक्षक का अनुमोदन प्राप्त होने पर अनुवादक को 75% पारिश्रमिक का भुगतान किया जाता है ।शेष 25% अनुवादक-पारिश्रमिक का भुगतान पुस्तक पूरी छप जाने पर किया जाता है ।
  • Next Page >>

Untitled Document